Contact Information / सम्पर्क जानकारी

C-125,1st Floor,Sector-02 Noida,Uttar,Uttar Pradesh - 201301

Call Us / सम्पर्क करें

 

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के सांसद और पंजाब इकाई के प्रमुख भगवंत मान और आम आदमी पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व के बीच विवाद बढ़ता नज़र आ रहा है। जहां एक तरफ आम आदमी पार्टी पंजाब में आगामी विधानसभा चुनावों के लिए मुख्यमंत्री के पद के उम्मीदवार के लिए भगवंत मान का नाम नहीं लाना चाह रही थी, वहीं दूसरी तरफ भगवंत मान मुख्यमंत्री पद का चेहरा स्वयं को नामित करने के लिए पार्टी पर दबाव बना रहे हैं।

बता दें कि सांसद भगवंत मान संगरूर से दो बार विधायक बने हैं। मान पिछले एक हफ्ते से अपने समर्थकों से मुलाकात कर रहे हैं। यह मुलाकातें इस बात की तरफ इशारा कर रही है कि पार्टी के कार्यकर्ता भी मान को पसंद करते हैं और ऐसे में अगर आम आदमी पार्टी को पंजाब चुनाव जीतना है तो मुख्यमंत्री पद के लिए भगवंत मान का नाम ही आगे आना चाहिए। वहीं भगवंत मान को समर्थन देने के लिए आप के कुछ विधायक भी सामने आए हैं। इन सबसे यह तो अंदाज़ा हो गया है कि पार्टी के अंदर तकरार चल रही है। वहीं मान ने भी अपना नाम मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में न दिए जाने को लेकर अपनी नाराज़गी की तरफ इशारा किया है। दरअसल जब वे गुरदासपुर जिले में वरिष्ठ अकाली नेता सेवा सिंह सेखवां के समारोह में शामिल हुए जहां पार्टी प्रमुख और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी मौजूद थे तो उन्‍होंने लो प्रोफाइल बनाए रखा था। शनिवार को मान ने कहा की पार्टी के अधिकतर कार्यकर्ता उन्हें पंजाब विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में देखना चाहते हैं। मान ने आगे कहा कि सीएम के उम्मीदवार का चयन करने के लिए पार्टी को जमीनी हकीकत को देखते हुए कार्यकर्ताओं की बात सुनकर फैसला लेना चाहिए। आप सूत्रों की माने तो भगवंत मान की इस प्रकार की टिप्पणी करना और मुख्यमंत्री पद के लिए स्वयं को नामित करने के लिए पार्टी को मजबूर करना सही नहीं है। मान सोशल मीडिया पर भी अभियान चला रहे हैं और हर रोज़ उनके घर पर कार्यकर्ताओं की भीड़ लग रही है। उनके एक सहयोगी ने बताया कि पंजाब में लोग हमें बुलाते है कि मान साहब से मिलना है और हम शायद ही उन्हें मना कर पाए। हमारे कार्यकर्ता दूसरी राजनीतिक पार्टियों से अलग और मुखर हैं। भगवंत मान को मुख्यमंत्री का उम्मीदवार बनाने के लिए पार्टी को कोई मजबूर नहीं कर रहा है।

वहीं कार्यकर्ताओं के अलावा कुछ विधायकों ने भी मान का समर्थन किया है। जिनमें महल कलां के विधायक कुलवंत सिंह पंडोरी और कोटकपूरा के विधायक कुलतार सिंह संधवान जैसे विधायकों का नाम शामिल हैं। बता दें कि इन विधायकों ने खुलकर मान का समर्थन किया है। इसके अतिरिक्त आप नेता हरपाल सिंह चीमा का इस संबंध में कहना है कि यह केवल उत्साहित कार्यकर्ता हैं और कुछ नहीं। वहीं भगवंत मान ने कहा कि वह सिर्फ अपना नाम मुख्यमंत्री पद के लिए ही स्वीकार करेंगे। जबकि सूत्रों के अनुसार पार्टी नेतृत्व इस पक्ष में नहीं है।

 

Share:

administrator

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *