Contact Information / सम्पर्क जानकारी

C-125,1st Floor,Sector-02 Noida,Uttar,Uttar Pradesh - 201301

Call Us / सम्पर्क करें

 

नई दिल्ली: सुनंदा पुष्कार मौत मामले में कांग्रेस नेता शशि थरूर को कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। दरअसल दिल्ली के राउस एवेन्यू कोर्ट ने शशि थरूर को अपनी पत्नी सुनंदा पुष्कर मौत के मामले में आरोप तय करने से इनकार करते हुए उन्हें सभी आरोपों से रिहा कर दिया है। बता दें कि 17 जनवरी 2014 को दिल्ली के एक आलीशान होटल में सुनंदा पुष्कर की लाश मिली थी और इस मामले में शशि थरूर पर काफी आरोप लगाए गए थे।

दरअसल जब 17 जनवरी 2014 को दिल्ली के एक होटल के कमरे में सुनंदा पुष्कर की लाश मिली तो इसकी जांच के दौरान शशि थरूर को आरोपी बनाया गया था। शशि थरूर पर सुनंदा को प्रताड़ित करने और उन्हें आत्महत्या के लिए उकसाने जैसे गंभीर आरोप लगाए गए थे। लेकिन कोर्ट ने शुरुआती बहस के दौरान ही शशि थरूर पर लगे सभी आरोपों को खारिज कर दिया। कानूनी प्रक्रिया के अनुसार जब पुलिस किसी भी मामले में चार्जशीट दाखिल करती है तो उसे लेकर अदालत में बहस की जाती और उसके बाद उस मामले की सुनवाई की जाती है। लेकिन बहस के दौरान ही दिल्ली पुलिस द्वारा शशि थरूर पर लगाए गए आरोपों को कोर्ट ने मानने से इनकार कर दिया। पुलिस की इस चार्जशीट में शशि थरूर पर अपनी पत्नी को प्रताड़ित करने के लिए आईपीसी की धारा 498(A) और उन्हें आत्महत्या के लिए उकसाने के लिए धारा 306 के तहत आरोप लगाए गए थे। लेकिन उस समय इस मामले को लेकर शशि थरूर को गिरफ्तार नहीं किया गया था। दिल्ली पुलिस ने अपनी चार्जशीट में थरूर के खिलाफ पर्याप्त सबूत होने का दावा किया था। लगभग 3000 पन्नों की इस चार्जशीट में सिर्फ शशि थरूर को सुनंदा पुष्कर की मौत का आरोपी बताया गया था। वहीं एम्स के मेडिकल बोर्ड ने 29 सितंबर 2014 को सुनंदा की पोस्टमार्टम रिपोर्ट पुलिस को सौंपी थी जिसमें ये कहा गया था कि सुनंदा की मौत ज़हर के कारण हुई थी। बोर्ड के अनुसार कई रसायन ऐसे होते हैं जो पेट में जाने या फिर खून में मिलने के बाद ज़हर बन जाते हैं। फॉरेंसिक साइंस ऑटोप्सी एनालिसिस रिपोर्ट के मुताबिक सुनंदा पुष्कर मानसिक तनाव से गुज़र रहीं थीं। कुछ दिनों से उन्होंने खाना भी बंद कर दिया था और वे लगातार धूम्रपान भी कर रहीं थीं। इस सबके मद्देनजर शशि थरूर को उनकी मौत का आरोपी बनाया गया था लेकिन अब साढ़े सात साल बाद उन्हें सभी आरोपों से मुक्त कर दिया गया है।

बता दें कि शशि थरूर और सुनंदा पुष्कर साल 2007 में एक कार्यक्रम के दौरान एक-दूसरे से मिले थे। जिसके बाद साल 2010 में मलयाली रीति-रिवाज़ो के तहत दोनों की शादी हुई थी। सुनंदा पुष्कर शशि थरूर की तीसरी पत्नी थीं और शादी के चार साल बाद ही दोनों के बीच अनबन शुरू हो गई थी। सुनंदा की मौत के संबंध में जब दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट दाखिल की तो उसमें सुनंदा के भाई का भी बयान दर्ज किया गया था। सुनंदा के भाई ने कहा था कि सुनंदा अपने वैवाहिक जीवन में खुश तो थी लेकिन बीते कुछ दिनों से वह अपनी शादीशुदा जिंदगी के कारण तनाव में थी। वहीं एक नौकर ने भी बयान दिया था कि शशि थरूर और सुनंदा के बीच अक्सर लड़ाइयां होती रहती थी।

 

 

Share:

administrator

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *