Contact Information / सम्पर्क जानकारी

C-125,1st Floor,Sector-02 Noida,Uttar,Uttar Pradesh - 201301

Call Us / सम्पर्क करें

नई दिल्ली: कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमा पर एक महीने से किसान आंदोलन चल रहा है। वहीं, देश भर में किसान प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बीच उत्तराखंड के किसान (Farmers) उग्र हो गए गए हैं। राज्य से तमाम किसान दिल्ली कूच (Delhi March) के लिए निकल गए हैं। ऊधमसिंह नगर जिले के काशीपुर और अन्य जगहों से सैकड़ों किसान दिल्ली के लिए निकले हैं। इसके कारण रामपुर सीमा पर भारी तादाद में पुलिस (Police) को तैनात किया गया है।

पुलिस ने हल्दुआ गांव के पास टोल प्लाजा पर किसानों को रोकने की बहुत कोशिश की, लेकिन किसान वहां से बैरिकेडिंग हटाकर आगे की ओर बढ़ गए। दूसरी तरफ काशीपुर में किसानों पुलिस का घेरा तोड़कर आगे की ओर बढ़ गए। इस दौरान किसानों और पुलिस के बीच झड़प भी हो गई। रामपुर सीमा पर भारी पुलिस तैनाती के साथ ऊधमसिंह नगर जिले में रुद्रपुर, बाजपुर, काशीपुर सहित और भी अन्य जगहों पर पुलिस को तैनात किया गया है। पुलिस किसानों को दिल्ली आने से रोकने की कोशिश कर रही है।

किसान आंदोलन की वजह से उत्तर प्रदेश और दिल्ली की बस सेवा पर असर पड़ा है। आंदोलन के कारण कई जगहों पर जाम की स्थिति बन गई है। वहीं, एसपी देवेंद्र पींचा किसानों को समझाने के लिए सीमा पर गए। तीन नए कृषि कानूनों (Farm Law) के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों की इस कानूनी लडाई में आम आदमी पार्टी (AAP) किसानों की मदद करेगी।

प्रदेश के आप प्रवक्ता संजय भट्ट और उपाध्यक्ष रजिया बेग ने बताया है कि किसानों की स्थिति बिगड़ती जा रही है, इसकी जिम्मेदार केंद्र सरकार है। किसान अपनी मांग पूरी करवाने के लिए शांति से आंदोलन कर रहे हैं। केंद्र सरकार (Central Government) और किसानों के बीच कई बार बैठक हो चुकी है, जिसके बाद भी कोई परिणाम सामने नहीं आया है। किसान अपनी मांगो पर अड़े हुए हैं। दूसरी तरफ केंद्रीय मंत्री और सांसद किसानों को आतंकवादी, खालिस्तानी कह कर उनका अपमान कर रहे हैं।


administrator

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *